Prerak Kahani : महान इंसान | Moral Stories in Hindi | Apeksha Mazumdar

Rate this post
Short Motivational Story In Hindi | Baccho ki Kahani | Nani ki Kahani | dadi ki kahani | moral stories in hindi | motivational story in hindi | motivational stories | motivational story in hindi | prerak prasang
Prerak Kahani | महान इंसान | Moral Stories in Hindi | Apeksha Mazumdar

Prerak Kahani | महान इंसान | Moral Stories in Hindi | Apeksha Mazumdar

प्रेरक कहानी, महान इंसान कहानी में बताया गया है कि वह व्यक्ति महान इंसान नहीं है जो सिर्फ लोगों की जरूरतों को पूरा करते है। क्योंकि जीवन में इंसान की जरूरत ही सबकुछ नहीं होती है। जो इंसान दूसरों की जरूरतों का ध्यान रखकर काम करते है, वे ही वास्तव में महान हैं। वे अपने कार्यो के कारण अमर हो जाते है और उनके मरणे के बाद भी लोग उसे याद करते हैं।


Prerak Kahani | Aparna Mazumdar

एक दिन राजा अपने मंत्री के साथ नगर भ्रमण के लिए निकले। राजा ने अपने मंत्री से पूछा, ‘‘दुनिया में सबसे महान कौन हैं?’’ मंत्री ने कहा, ‘‘महाराज आप, क्योंकि सत्य को जानने की कोशिश करने वाला मेरी नज़र में महान हैं।’’

कुछ देर सोचने के बाद राजा बोले, ‘‘तुम्हारी दृष्टि में मैं महान हूं, लेकिन मैं अपने से भी महान व्यक्ति को देखना चाहता हूं।’’

मंत्री ने कहा, ‘‘वह मैं हूं….।’’ Short Motivational Story In Hindi | Baccho ki Kahani | Nani ki Kahani | dadi ki kahani | moral stories in hindi | motivational story in hindi | motivational stories | motivational story in hindi | prerak prasang

राजा बोले, ‘‘मैं तुम से भी महान इंसान को देखना चाहता हूं।’’

मंत्री ने कहा, ‘‘महाराज ऐसे इंसान तो हमें कहीं भी दिखाई दे सकते हैं।’’

राजा ने आश्चर्य से पूछा, ‘‘कैसे?’’

मंत्री ने सामने इधर-उधर देखते हुए कहा, ‘‘बस, हमें उस दृष्टि से उनकी ओर देखना होगा। आप, सामने उस बुढ़िया को देख रहे है ….. वह क्या कर रही हैं।’’ Prerak Kahani : महान इंसान | Moral Stories in Hindi | Apeksha Mazumdar

Prerak Kahani | महान इंसान | Moral Stories in Hindi | Apeksha Mazumdar
Prerak Kahani | महान इंसान | Moral Stories in Hindi | Apeksha Mazumdar


Short Motivational Story In Hindi | Baccho ki Kahani | Nani ki Kahani | dadi ki kahani | moral stories in hindi | motivational story in hindi | motivational stories | motivational story in hindi | prerak prasang

राजा ने कहा, ‘‘वह कुदाल से मिटटी खोद रही हैं।’’

मंत्री ने राजा से कहा, ‘‘उसे गौर से देखिए, वह कुंआ खोद रही हैं।’’

कुछ देर देखने के बाद राजा बोले, ‘‘लेकिन वह इस उम्र में कुंआ क्यों खोद रही हैं?’’

मंत्री ने कहा, ‘‘महाराज इंसान की जरूरत ही सबकुछ नहीं होती है। जो इंसान दूसरों की जरूरतों का ध्यान रखकर काम करते है, वे ही वास्तव में महान हैं। वे अपने कार्यो के कारण अमर हो जाते है और उनके मरणे के बाद भी लोग उसे याद करते हैं।’’

मंत्री की बात सुनकर राजा खुश हो गए। उन्होंने मन ही मन निश्चय किया कि आज के बाद वे लोगों की भलाई के लिए कार्य करेंगे।

Business Mantra | बिजनेस से संबंधित जानकारी के लिए यहां क्लिक करें

Laghu katha | लघुकथा पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

Prerak Kahani | प्रेरक कहानी पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें

(Copyright: All Rights Aparna Mazumdar)

#prerak_kahani #prerakkahani #motivationalstoryinhindi #motivational_story_in_hindi #प्रेरककहानी

 

share to stories

Leave a Comment