Jun 4, 2021

बच्चों की जासूसी कहानी || कंपनी में चोरी

 
Bachcho Ki Jasoosi Kahani, Company Mein Choree



#baccho_ki_kahani #jasoosi_kahani #hindi_kahaniya

Bachcho Ki Jasoosi Kahani || Company Mein Choree


बच्चों की जासूसी कहानी || कंपनी में चोरी


सतपुड़ावन में टेडी एण्ड सन नाम की एक बहुत बड़ी कंपनी थी. उस कंपनी में वन के बहुत सारे जानवर काम करते थे. 

कुछ दिनों से टेडी एण्ड सन का मालिक टेडी भालू बहुत परेशान था. कई दिनों से उसके ऑफिस में चोरियां हो रही थी और आज तो गजब ही हो गया था. किसी ने उसके कंप्यूटर को ही हैंग कर दिया था. 




उसे अपने दोस्त चीकू खरगोश की याद आयी. चीकू खरगोश सतपुड़ावन में एक प्राइवेट जासूसी एंजेसी में काम करता था. वह बहुत ही चतुर और बुद्धिमान था. उसने सतपुड़ावन के कई बड़े अपराधियों को पकड़वाने में पुलिस की मदद की थी. 

टेडी भालू, चीकू खरगोश से मिलने उसके ऑफिस में पहुंचा. टेडी भालू को अपने ऑफिस में देखकर चीकू खरगोश बहुत खुश हुआ. उसने पूछा, ‘‘कहों मित्र, कैसे आना हुआ?’’ 

‘‘मैं तुम्हारे पास बहुत ही जरूरी काम से आया हूं. आशा है तुम इसे जल्दी ही हल कर दोगें. वर्ना मैं बर्बाद हो जाऊंगा,’’ टेडी भालू ने रोते हुए कहां.

‘‘मुझे बताओं क्या हैं? मैं तुम्हारी मदद अवश्य करूगां.’’ चीकू ने सांत्वना देते हुए कहां.

टेडी भालू बोला, ‘‘पिछले कई महिनों से मेरी कंपनी के डोक्युमेंटस चोरी हो रहे हैं, लेकिन आज तो हद हो गयी. किसी ने कंपनी का कंप्यूटर ही हैंग कर दिया है. जिसकी वजह से मेरा करोड़ों का नुकसान हो गया है. यदि कंप्यूटर ठीक नहीं हुआ तो मैं बर्बाद हो जाऊगां.’’




‘‘तुम्हारा कोई दुश्मन है या तुझे किसी पर शक हैं’’ चीकू खरगोश ने पूछा.

‘‘कारपोरेट जगत में सभी एक-दुसरे के मित्र और दुश्मन है. इसलिए मैं निश्चित तौर से कुछ नहीं कह सकता हूं’’ टेडी भालू ने कहा.

‘‘तुम्हारी कंपनी में ऐसा कोई व्यक्ति है जिस पर तुझे शक हो?’’


‘‘किसी पर नहीं, क्योंकि सभी मेरे पुराने कर्मचारी है और वे सभी काफी मेहनती व ईमानदार है.’’

‘‘ऐसे में पता लगाना तो बहुत मुश्किल हैं.’’कुछ सोचते हुए चीकू बोला, ‘‘मेरे दिमाग में एक योजना हैं.’’

‘‘योजना....’’ टेडी भालू ने आश्चर्य से पूछा।.

‘‘हां, मैं जैसे कहूं तुम वैसे करना.’’ चीकू ने टेडी को अपनी योजना अच्छे से समझा दी.

योजना के अनुसार टेडी भालू ने चीकू खरगोश को अपनी कंपनी में नौकरी पर रख लिया और सभी कर्मचारियों से उसका परिचय एक मजदूर के रूप में करवा दिया.




कर्मचारियों से मिलने के बाद चीकू खरगोश को पता चला कि कंपनी का मैनेजर भीकू सियार सबसे पुराना कर्मचारी है. वह काफी बूढ़ा हो चुका है, इसीलिए टेडी भालू अब उसे कंपनी से रिटायर करने वाला हैं. 

कंपनी के सभी कर्मचारी ईमानदार और मेहनती थे. एक दिन सभी कर्मचारियों के चले जाने के बाद चीकू खरगोश छिपकर बैठा हुआ था कि तभी उसकी नजर भीकू सियार पर पड़ी.

भीकू सियार को देखकर चीकू खरगोश सोचने लगा, भीकू सियार इस वक्त वह यहां क्या कर रहा हैं? सभी कर्मचारी तो घर चले गये है. शायद कुछ काम होगा इसीलिए अभी तक घर नहीं गया हैं, लेकिन टेडी भालू का माथा तब ठनका जब उसने भीकू सियार को टेडी भालू के कैबिन में चोरी छिपे घुसते हुए देखा. 




चीकू खरगोश भी चुपचाप उसके पीछे-पीछे टेडी भालू के कैबिन तक आया और दरवाजे को थोड़ा सा खोलकर अंदर देखने लगा.


भीकू सियार, केबिन में रखे कंप्युटर से छेड़खानी कर रहा था. यह देखकर चीकू केबिन के अंदर आ गया.

चीकू को देखकर भीकू घबरा गया. उसने जल्दी से कंप्यूटर बंद करना चाहा.

‘‘मालिक की गैरहाजिरी में तुम इस समय यहां क्या कर रहे हो?’’ चीकू खरगोश ने कड़क आवाज में पूछा.

भीकू ने कोई जवाब नहीं दिया. तब चीकू ने अपना परिचय देते हुए कहां, ‘‘मैं तुमसे आखरी बार पूछ रहा हूं कि इस वक्त तुम यहां क्या कर रहे थे.’’

अपने सामने जासूस चीकू खरगोश को देखकर मीकू सियार डर गया. उसने हाथ जोड़कर माफी मांगते हुए कहा, ‘‘मैं कुछ ही दिनों में रिटायर होने वाला हूं. रिटायर के बाद मैं अपना छोटा सा करोबार शुरू करना चाहता था. कई वर्षो से इस कंपनी में दिन-रात मेहनत की है, लेकिन इतना पैसा नहीं जमा कर सका की अपना करोबार शुरू कर संकू.’’  


‘‘अचानक एक दिन चकमक कंपनी के मालिक से मेरी मुलाकात हुई. उसने टेडी एण्ड सन कंपनी के डोक्युमेंटस और अंदुरूनी जानकारी के बदले में मुझे दस लाख रूपये देने की बात की. एक साथ इतने रूपये के लालच में आकर मैं कंपनी की जानकारी देने के लिए तैयार हो गया. मुझे माफ कर दो.’’ 

‘‘मेरा काम अपराधी का पता लगाना है. सजा देना या माफ करना आपके मालिक के हाथ में है’’ चीकू खरगोश ने कहां.

उसने मोबाइल द्वारा टेडी को बुलाकर कहा, ‘‘तुम्हारा अपराधी तुम्हारे सामने है.’’

टेडी भालू बोला, ‘‘तुम्हें रूपये की जरूरत थी तो मुझसे कहते. मैं उतने सारे रूपये तो नहीं देता, लेकिन तुम्हें करोबार खोलने में जरूर मदद करता, लेकिन तुमने लालच में आकर मेरे साथ विश्वासघात किया हैं. मेरेे विश्वास को चोट पंहुचाई थी. इसके लिए तुम्हें सजा जरूर मिलनी चाहिए.’’ 

टेडी भालू ने पुलिस को बुलाकर भीकू सियार को उनके हवाले कर दिया.

No comments:

Post a Comment

Note: Only a member of this blog may post a comment.

बच्चों की जासूसी कहानी || कंपनी में चोरी

  #baccho_ki_kahani #jasoosi_kahani #hindi_kahan iya Bachcho Ki Jasoosi Kahani || Company Mein Choree बच्चों की जासूसी कहानी || कंपनी में चो...