Jun 4, 2021

बच्चों की जासूसी कहानी || कंपनी में चोरी

 
Bachcho Ki Jasoosi Kahani, Company Mein Choree



#baccho_ki_kahani #jasoosi_kahani #hindi_kahaniya

Bachcho Ki Jasoosi Kahani || Company Mein Choree


बच्चों की जासूसी कहानी || कंपनी में चोरी


सतपुड़ावन में टेडी एण्ड सन नाम की एक बहुत बड़ी कंपनी थी. उस कंपनी में वन के बहुत सारे जानवर काम करते थे. 

कुछ दिनों से टेडी एण्ड सन का मालिक टेडी भालू बहुत परेशान था. कई दिनों से उसके ऑफिस में चोरियां हो रही थी और आज तो गजब ही हो गया था. किसी ने उसके कंप्यूटर को ही हैंग कर दिया था. 




उसे अपने दोस्त चीकू खरगोश की याद आयी. चीकू खरगोश सतपुड़ावन में एक प्राइवेट जासूसी एंजेसी में काम करता था. वह बहुत ही चतुर और बुद्धिमान था. उसने सतपुड़ावन के कई बड़े अपराधियों को पकड़वाने में पुलिस की मदद की थी. 

टेडी भालू, चीकू खरगोश से मिलने उसके ऑफिस में पहुंचा. टेडी भालू को अपने ऑफिस में देखकर चीकू खरगोश बहुत खुश हुआ. उसने पूछा, ‘‘कहों मित्र, कैसे आना हुआ?’’ 

‘‘मैं तुम्हारे पास बहुत ही जरूरी काम से आया हूं. आशा है तुम इसे जल्दी ही हल कर दोगें. वर्ना मैं बर्बाद हो जाऊंगा,’’ टेडी भालू ने रोते हुए कहां.

‘‘मुझे बताओं क्या हैं? मैं तुम्हारी मदद अवश्य करूगां.’’ चीकू ने सांत्वना देते हुए कहां.

टेडी भालू बोला, ‘‘पिछले कई महिनों से मेरी कंपनी के डोक्युमेंटस चोरी हो रहे हैं, लेकिन आज तो हद हो गयी. किसी ने कंपनी का कंप्यूटर ही हैंग कर दिया है. जिसकी वजह से मेरा करोड़ों का नुकसान हो गया है. यदि कंप्यूटर ठीक नहीं हुआ तो मैं बर्बाद हो जाऊगां.’’




‘‘तुम्हारा कोई दुश्मन है या तुझे किसी पर शक हैं’’ चीकू खरगोश ने पूछा.

‘‘कारपोरेट जगत में सभी एक-दुसरे के मित्र और दुश्मन है. इसलिए मैं निश्चित तौर से कुछ नहीं कह सकता हूं’’ टेडी भालू ने कहा.

‘‘तुम्हारी कंपनी में ऐसा कोई व्यक्ति है जिस पर तुझे शक हो?’’


‘‘किसी पर नहीं, क्योंकि सभी मेरे पुराने कर्मचारी है और वे सभी काफी मेहनती व ईमानदार है.’’

‘‘ऐसे में पता लगाना तो बहुत मुश्किल हैं.’’कुछ सोचते हुए चीकू बोला, ‘‘मेरे दिमाग में एक योजना हैं.’’

‘‘योजना....’’ टेडी भालू ने आश्चर्य से पूछा।.

‘‘हां, मैं जैसे कहूं तुम वैसे करना.’’ चीकू ने टेडी को अपनी योजना अच्छे से समझा दी.

योजना के अनुसार टेडी भालू ने चीकू खरगोश को अपनी कंपनी में नौकरी पर रख लिया और सभी कर्मचारियों से उसका परिचय एक मजदूर के रूप में करवा दिया.




कर्मचारियों से मिलने के बाद चीकू खरगोश को पता चला कि कंपनी का मैनेजर भीकू सियार सबसे पुराना कर्मचारी है. वह काफी बूढ़ा हो चुका है, इसीलिए टेडी भालू अब उसे कंपनी से रिटायर करने वाला हैं. 

कंपनी के सभी कर्मचारी ईमानदार और मेहनती थे. एक दिन सभी कर्मचारियों के चले जाने के बाद चीकू खरगोश छिपकर बैठा हुआ था कि तभी उसकी नजर भीकू सियार पर पड़ी.

भीकू सियार को देखकर चीकू खरगोश सोचने लगा, भीकू सियार इस वक्त वह यहां क्या कर रहा हैं? सभी कर्मचारी तो घर चले गये है. शायद कुछ काम होगा इसीलिए अभी तक घर नहीं गया हैं, लेकिन टेडी भालू का माथा तब ठनका जब उसने भीकू सियार को टेडी भालू के कैबिन में चोरी छिपे घुसते हुए देखा. 




चीकू खरगोश भी चुपचाप उसके पीछे-पीछे टेडी भालू के कैबिन तक आया और दरवाजे को थोड़ा सा खोलकर अंदर देखने लगा.


भीकू सियार, केबिन में रखे कंप्युटर से छेड़खानी कर रहा था. यह देखकर चीकू केबिन के अंदर आ गया.

चीकू को देखकर भीकू घबरा गया. उसने जल्दी से कंप्यूटर बंद करना चाहा.

‘‘मालिक की गैरहाजिरी में तुम इस समय यहां क्या कर रहे हो?’’ चीकू खरगोश ने कड़क आवाज में पूछा.

भीकू ने कोई जवाब नहीं दिया. तब चीकू ने अपना परिचय देते हुए कहां, ‘‘मैं तुमसे आखरी बार पूछ रहा हूं कि इस वक्त तुम यहां क्या कर रहे थे.’’

अपने सामने जासूस चीकू खरगोश को देखकर मीकू सियार डर गया. उसने हाथ जोड़कर माफी मांगते हुए कहा, ‘‘मैं कुछ ही दिनों में रिटायर होने वाला हूं. रिटायर के बाद मैं अपना छोटा सा करोबार शुरू करना चाहता था. कई वर्षो से इस कंपनी में दिन-रात मेहनत की है, लेकिन इतना पैसा नहीं जमा कर सका की अपना करोबार शुरू कर संकू.’’  


‘‘अचानक एक दिन चकमक कंपनी के मालिक से मेरी मुलाकात हुई. उसने टेडी एण्ड सन कंपनी के डोक्युमेंटस और अंदुरूनी जानकारी के बदले में मुझे दस लाख रूपये देने की बात की. एक साथ इतने रूपये के लालच में आकर मैं कंपनी की जानकारी देने के लिए तैयार हो गया. मुझे माफ कर दो.’’ 

‘‘मेरा काम अपराधी का पता लगाना है. सजा देना या माफ करना आपके मालिक के हाथ में है’’ चीकू खरगोश ने कहां.

उसने मोबाइल द्वारा टेडी को बुलाकर कहा, ‘‘तुम्हारा अपराधी तुम्हारे सामने है.’’

टेडी भालू बोला, ‘‘तुम्हें रूपये की जरूरत थी तो मुझसे कहते. मैं उतने सारे रूपये तो नहीं देता, लेकिन तुम्हें करोबार खोलने में जरूर मदद करता, लेकिन तुमने लालच में आकर मेरे साथ विश्वासघात किया हैं. मेरेे विश्वास को चोट पंहुचाई थी. इसके लिए तुम्हें सजा जरूर मिलनी चाहिए.’’ 

टेडी भालू ने पुलिस को बुलाकर भीकू सियार को उनके हवाले कर दिया.

May 17, 2021

Diamond theft : English Moral Stories || Jasoosi Kahani || Apeksha Mazumdar

Diamond Ki Chori,English Moral Stories,Jasoosi Kahani,


Diamond theft : English Moral Stories || Jasoosi Kahani || Apeksha Mazumdar


''we were sleeping. Suddenly, two-three gun masked men entered our room. He opened the vault from us at gunpoint and took away diamonds worth crores of rupees kept in the vault."


At that time it was almost one o'clock in the night. Inspector Cheetah Chatursingh reached the office by patrolling along with the policemen. At this time, the phone rang.

As soon as he picked up the phone, a voice came from the other side saying, "Hello, I am speaking Seth Gajraj Elephant, the owner of Poonam Jewelery. Can I talk to Inspector Chatursingh. "




"I am speaking Inspector Chatursingh ...... Say what is the matter?"

"Just now, three-four masked gunmen have entered my house and looted diamonds worth crores of rupees."

Hearing the news of the diamond robbery, Inspector Chatursingh asked the driver to get out the car quickly and immediately proceeded towards the house of Seth Gajraj with the police team.

After reaching there, saw the dark shadow of Seth Gajraj's house. There was no watchman at the gate.

Inspector Chatursingh pushed the door and reached inside the room. The room was dark. They lit the torch and started finding the switch boards inside the room. He saw a switch board in the light of the torch. Swizzed on. The room lights up.

He saw in the light of light, Gajraj and his wife were tied on the chair in front. His mouth was tied with a cloth.

Inspector Chatursingh went ahead and took out the cloth from their mouths and opened the rope of both of them.

Gajraj said, "I was robbed ...... was ruined ...... I went bankrupt." The diamonds of my crores were plundered. "

Inspector Chatursingh asked for information about the incident.

''we were sleeping. Suddenly two-three gun masked men entered our room. They opened the vault from us at gunpoint, and ran away with diamonds worth crores of rupees kept in the vault. "




The inspector asked, "Where did the masked come from."

Gajraj pointed to the window in the room and said, "Maybe from there."

"Where did you go from ..."

"From where he came, he left from there", Seth Gajraj replied.

Inspector Chatur Singh asked, "When did the masked bind you?"

"Before leaving, they tied us to a chair and went looking for cloth on the mouth," Seth Gajraj told.

"You don't have servants or watchmen", the inspector asked.

"Both of them have gone on vacation," Gajraj said.

"Somebody is suspicious."

"No, I don't doubt anyone ..." Where did Gajraj go.

The inspector began to investigate thoroughly around the window. They did not see any such mark there, so that it could be known that someone had come in through the window. He inspected the room closely, but he could not find any clue there either.




It was morning while investigating. But the inspector did not find anything there. They filed a complaint of theft.

Inspector Chatursingh sought information about the watchman and the servant.

Seth Gajraj said, "I don't know anything about both of them. She had spoken of coming back in two days, but has not returned yet. "

Scolding Inspector Chatursingh Seth, he said, "You don't know if any servant and watchman should get to know him well before putting him in work." Not only this, their information should be sent to the police station. "

 "Both seemed very straightforward and honest. That is why these things were ignored. I will keep this in mind from the beginning. Whenever I will hire a new servant, I will definitely give it to the police station. "

Many months passed, but nothing was discovered about the loot of crores of diamonds that took place at Seth Gajraj.

Inspector Chatursingh reached Seth Gajraj and said to him, "You are arrested on charges of writing false reports of theft of diamonds and misleading the police."

Seth Gajraj said, "You can't arrest me without proof."

Inspector said, "Along with the evidence, we have also brought a warrant of arrest."

On receiving the information about the robbery of the diamonds, when I reached your house to investigate, at the same time I knew that the diamonds had not been robbed. "

"When I reached your house, you and your wife were tied to the chair at that time. The cloth was tied in the mouth of both of you. "

I got suspicious at the same time when your hands and feet were tied to the chair and the cloth was tied in the mouth. How did you call the police then? "

On hearing the inspector, Seth Gajraj became sweaty and his wife started crying in fear.

The inspector said, "Your wife and servant Monu Rat have supported you in this theft drama.

When I investigated this matter carefully, it was found that recently you had the diamonds insured. You did a drama to get stolen to get the insurance money. "

"First you sent the watchman on leave. After this, the servant got lured with money and mixed it with him. "

"You called the police station at one o'clock in the night. After this, according to your description, the servant tied you and your wife to a chair and tied a cloth in the mouth and went to his village from here. "

When I started investigating the matter, I understood the matter clearly. That is why he first went to the village and met Monu there.

When I asked the servant, "Seth Gajraj has told the police your name to protect himself." Seth says diamonds were stolen by his servant Monu. Hearing me, Monu fell on my feet. He told all the truths.

When the Inspector gave voice, Sub Inspector Bahadur came inside the room with Monu with him. The handcuffs were tied in Monu's hand.

Inspector arrested Seth Gajraj. To support Seth, his wife and servant were also arrested.

The inspector said, "No matter how clever the criminal is, he cannot escape from the eyes of the police."


Feb 24, 2021

Jasusi Kahani || लालच || Moral Stories in Hindi

 
Jasusi Kahani || लालच || Moral Stories in Hindi


Jasusi Kahani || लालच || Moral Stories in Hindi


खगवन में रहने वाली मयूरी मोरनी को गहनों का बहुत शौक था. जब भी वह कहीं जाने के लिए निकलती, मंहगे गहने पहन कर निकलता थी. 

एक दिन वह बनठन कर बाजार जा रही थी. रास्ते में उसे गबरू गिध्द मिला. 

उसने मयूरी से पूछा, ‘‘मोरनी जी, मोरनी जी आप कहां जा रही है?

मोरनी ने गिध्द का ऊपर से नीचे तक देखते हुए बोली, ‘‘तुम से मतलब...’’

‘‘मैं तो इसलिए पूछ रहा था. सामने वाली गली में एक सेठ दान दे रहे हैं. आप भी जाकर ले आती.’’

‘‘क्या मैं तुझे गरीब भिखारी दिख रही हूं.’’ मयूरी ने आंखें तरेर कर कहा.

इतने में वहां कालू कौआ आ गया. 

‘‘मोरनी जी नारज मत होइए. बात ऐसी है, एक सेठ जी सन्यास ले रहे है. इसलिए वे अपना सब कुछ दान कर रहे है. सबको एक हजार का नोट, बनारसी साड़ी, चांदी के पांच बर्तन और सोने के सिक्के दे रहे हंै. मुफ्त में मिल रहा है तो जाकर लेने में क्या जाता है.’’ 




कौआ और गिद्ध द्वारा बारबार कहने पर मयूरी सोचने लगी. ‘दोनों सही कह रहे हैं. जब मुफ्त में हजारों का माल मिल रहा है, तो लेने में हर्ज क्या है.’ 

‘‘ठीक है तुम दोनों कह रहे हैं तो मैं जाती हूॅ.’’ इतना कह कर मयूरी गली की ओर जाने लगी तो दोनों ने उसे रोकते हुए कहा, ‘‘मोरनी जी ऐसे मत जाइए. आपने इतने सारे गहने पहन रखें हैं. यह देख कर सेठ आपको दान नहीं देगा. आप इन्हें उतार कर हमारे पास दे दें. जब तक आप नहीं लौटती हम आपका यहीं इंतजार करते हैं.’’

दान में मिलने वाले सोनाचांदी और बनारसी साड़ी के लालच में आकर मोरनी ने सारे गहने उतार कर उनके पास रख  दिए. 

‘‘मोरनीजी आप बिलकुल चिंता न करें. आप जब लौटेंगी, आपका सामान आपको मिल जाएगा.’’

मोरनी गली में अंदर गई, पर वहां कोई सेठ दान नहीं दे रहा था. काफी दूर तक जाने पर भी कहीं कुछ पता नहीं चला. 



मोरनी गगली से निकल कर सड़क पर आ गई, लेकिन क्या वहां पर तो कौआ और गिध्द नहीं थे. दोनों को न पा कर मोरनी जोरजोर से चिल्लाने लगी. 

‘‘मैं तो लुट गई बर्बाद हो गई. कौआ और   गिध्द दोनों ने मुझे ठग लिया. मैं कहीं की न रही. मेरे लाखों के गहने लुट लिये’’ 

मोरनी अपना सीना पिटपिट कर रो रही थी. उसके रोने की आवाज सुनकर कुछ जानवर जमा हो गए. मोरनी का रोरो कर बूरा हाल था.

किसी ने सौ नंबर पर डायल करके पुलिस को इसकी सूचना दे दी. थोड़ी ही देर में इंस्पेक्टर सरस सारस दल के साथ वहां पहुंच गए. 

उन्होंने मोरनी की पूरी बात सुनने के बाद कहां, ‘‘मुफ्त के माल के चक्कर में तूमने अपने मंहगें गहने खो दिये. अब रोने से काम नहीं चलेगा. ठग का पता लगाने में कुछ समय लगेगा.’’


पुलिस ने मोरनी की शिकायत पर गिध्द और कौआ के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया. 

खगवन में इस तरह के कई मामले हो चुके थे. मुफ्त का माल पाने के चक्कर में पक्षी अपने पास के मंहगें गहने गंवा रहे थे. 

एक दिन इंस्पेक्टर सरस सारस ने अपराधियों को पकड़ने के लिए उन्हीं का फार्मूला अपनाया. 

उन्होंने सब इंस्पेक्टर कबूतरी को  सादे ड्रेस में ढ़ेर सारे गहने पहना कर बाजार की ओर भेंजा. 

शिकार की तलाश में गबरू गिध्द और कालू कौआ एक जगह छुपकर बैठे हुए थे. उनकी निगाह जैसे ही सोने से लदी कबूतरी पर पड़ी. कबूतरी को ठगने के लिए दोनों बाहर निकल कर आ गए.

कबूतरी के पास पहुंच कर कौआ ने कहा, ‘‘कबूतरी जी, कबूतरी जी कहां जा रही है आप?
‘‘मैं अपने काम से जा रही हूं, क्यों?


‘‘हम कह रहे थे पास वाली गली में एक सेठ दान दे रहे थे. दान में बनारसी साड़ी, चांदी के बर्तन, सोने के सिक्के और एक हजार रूपए दे रहे हैं. आपकी इच्छा हो तो आप जाकर ले सकती है.’’

‘‘क्या कहां. चांदी के बर्तन, सोने के सिक्के, बनारसी साड़ी और हजार रूपए वह भी मुफ्त में मिल रहे हैं कहां मिल रहे हैं जल्दी से मुझे बताओ.’’

‘‘वह सामने गली में.’’ गिध्द ने कहा.

‘‘ठीक है मैं जाती हूं.’’ 

जैसे ही कबूतरी उस ओर जाने लगी. कालू कौआ ने रोकते हुए कहा, ‘‘कबूतरी जी, ऐसे जाने पर आपको दान नहीं मिलेगा. अपने सारे गहने उतार कर हमें देदें. वहां से दान लेकर लौटने के बाद अपने गहने ले लेना.’’ कालू कौआ ने कहां.

कबूतरी मान गई. अपने गहने उतार कर देने  लगी. इतने में इंस्पेक्टर सरस सारस पुलिस टीम के साथ वहां पहुंच गए. 

पुलिस को देखकर दोनों भागने लगे, पर वे भाग नहीं सके. पुलिस ने दोनों को गिरफ्तार कर लिया. पुलिस ने दोनों को बताया वे जिसे ठगने की कोशिश कर रहे थे. वह सब इंस्पेक्टर कबूतारी है.

गबरू गिध्द और कालू कौआ के गिरफ्तार करने के बाद खगवन में ठगने की घटना बंद हो गई. 


Feb 19, 2021

Jasoosi Kahani : मास्क || Baccho ki Kahani || Jasusi Kahani

Jasoosi Kahani, Jasusi Kahani,  Baccho ki Kahani



Jasoosi Kahani : Baccho ki Kahani मास्क Jasusi Kahani

मड आईलैंड में एक दिन बिल्लू बंदर मास्क बेचने आया. उसके पास बिल्ली, बंदर, हाथी, शेर, चीता सभी जानवरों के चेहरे वाले तरह-तरह के मास्क थे.
मड आईलैंड में छोटे-बड़े सभी जानवर अपने में मस्त थे. 
कोई खेल रहा था, तो कोई खा रहा था, कोई रेत मंे सो रहा था, तो कोई बैठकर खेलते हुए बच्चों को देखकर खुश हो रहा था.
मास्क देखने व खरीदने में किसी को दिलचस्पी नहीं थी. 
शाम हो गई बिल्लू के एक भी मास्क नहीं बिके. वह निराश होकर घर लौटने लगा.
रास्ते में जंपी सियार ने बिल्लू बंदर को जाते हुए देखा. जंपी सियार चोर था. वह काम-धाम कुछ करता नहीं था. आएं दिन किसी न किसी घर में चोरी करके अपना गुजारा करता था. 



उसने बिल्लू को अपने पास बुलाया और एक-एक करके सभी मास्को को उलट-पलट कर देखने लगा. मास्क देखते हुए उसने सोचा, ‘यदि में इन मास्कांे को लगाकर चोरी करूंगा तो कोई भी मुझे नहीं पहचान पाएगा.’ 
यह विचार आते ही उसने बिल्लू से कहा, ‘‘इन सभी मास्क का कितना लोगे?’’
बिल्लू ने सभी मास्क का हिसाब करते हुए कहा, ‘‘पांच सौ रूपये दे देना.’’
‘‘यह तो बहुत ज्यादा है.’’ कहते हुए जंपी मोलभाव करने लगा. 
बिल्लू भी ग्राहक को हाथ से नहीं जाने देना चाहता था, क्योंकि सुबह से उसके एक भी मास्क नहीं बिके थे. आखिर में  450 रूपये में सभी मास्क की कीमत तय हो गई. 
जंपी ने रूपये देकर सारे मास्क खरीद लिये.
बिल्लू खुशी-खुशी अपने घर चला गया. 
कुछ दिनों से मड आईलैंड में चोरी की घटनाएं बढ़ गई. वहां का इंस्पेक्टर ब्लैकी भालू परेशान हो गया. उसकी समझ में नहीं आ रहा था, आखिर चोरियां कौन कर रहा है?
उसने पुलिस की चैकसी पहले से बढ़ा दी. इसके बावजूद लगातार चोरिया हो रही थी.
ब्लैकी चोरी की घटनाओं से परेशान था. उसे अभी तक कोई ठोस सबूत नहीं मिला था जिससे कुछ पता चल सकें. वह अभी-अभी ब्जंगल का चक्कर लगाकर आया था. 



तभी मिनी हिरनी रोते हुए वहां आयी. उसने कहा, ‘‘मेरे घर पर चोरी हो गई.’’
ब्लैकी भालू ने हैरानी से पूछा, ‘‘तुमने चोर को देखा है?’’
मिनी बोली, ‘‘हां मैंने चोर को भागते हुए देखा हैं.’’
‘‘कैसा दिखता हैं वह?’’ ब्लैकी ने पूछा.
‘‘बहुत ही भयानक.... उसका आधा शरीर बंदर जैसा और आधा सियार जैसा था.’’
इतने में जिब्राल जिराफ ब्लैकी के पास आकर बोला, ‘‘मेरे घर में चोरी हो गई है. मैं अपने घर की रखवाली कर था. लेकिन बैठे-बैठे मेरी आंख लग गई. तभी किसी चीज के गिरने की आवाज से मेरी आंख खुल गई. मैंने चोर को दीवार फांद कर जाते हुए देखा है. चोर की आकृति देखकर मुझे हैरानी हुई क्योंकि उसका चेहरा शेर जैसा था लेकिन शरीर का अन्य हिस्सा सियार की तरह था.’’



ब्लैकी समझ गया कि इन सभी चोरियों के पीछे किसी एक ही जानवर का हाथ है. क्योंकि मिनी हिरनी और जिब्राल जिराफ द्वारा चोर की जो आकृति बताई गई थी उसमें एक बात कामन थी कि उसका आधा हिस्सा सियार जैसा था. इसका मतलब वह जरूर मास्क लगाता है.
एक दो दिन की भाग दौंड के बाद ब्लैकी ने मड आईलैंड में मास्क बेचने वाले बिल्लू बंदर को ढुढ़ लिया. 
पुलिस को देखकर बिल्लू डर गया. उसने कहा, ‘‘साब, मैंने क्या किया हैं? आप मुझे क्यों पकड़ रहे हो?’’
ब्लैकी ने उसे चुप कराते हुए कहा, ‘‘तुमने कुछ नहीं किया है. तुम्हारे मास्क तो बहुत सुन्दर हैं. बस, हमंे तो यह पूछना है कि कुछ दिन पहले तुमसे किसने-किसने मास्क खरीदे थे.’’
यह सुनकर बिल्लू का डर कम हो गया. उसने याद करते हुए कहा, ‘‘चीकू खरगोश, चुन्नु चूहा, काला कौवा, और ..... हां, कुछ दिन पहले एक सियार ने मुझसे बहुत सारे मास्क खरीदे थे.’’
ब्लैकी ने कहा, ‘‘अच्छा अब वह दोबारा तुम्हें दिखे तो मुझे जरूर फोन करना.’’ 
ब्लैकी भालू ने बिल्लू के बताएं अनुसार सियार को ढुढ़ना शुरू किया. 
एक दिन बिल्लू ने ब्लैकी भालू को सूचना देते हुए कहा, ‘‘साब, मैंने अभी-अभी उसी सियार को ताल होटल के अंदर जाते हुए देखा है.’’
सूचना मिलते ही ब्लैकी भालू अपने दल के साथ ताल होटल पहुंचा. वहां उसने जंपी सियार को एक कोने में बैठे हुए देखा.
ब्लैकी भालू जंपी को पकड़ते हुए बोला, ‘‘तुम्हें चोरी के जुर्म में गिरफ्तार किया जाता हैं. हमारे साथ पुलिस स्टेशन चलो.’’
पुलिस को सामने देखकर जंपी बोला, ‘‘मैंने कोई चोरी नहीं की है. तुम मुझे जानते नहीं हो, मैं कौन हूं?’’ 
ब्लैकी भालू ने अपना डंडा दिखाते हुए कहा, ‘‘देखों सही-सही बता दो, वर्ना पुलिस के डंडे बरसेगें तो होश ठिकाने आ जाएगें.’’
‘‘मेरी पहुंच ऊपर तक है. तुमने मूझे हाथ भी लगाया तो सब को अंदर करवा दूंगा।’’ जंपी सियार ने गुर्राते हुए कहा.
जंपी की बात सुनकर इंस्पेक्टर ब्लैकी भालू भी परेशान हो गया कि अब क्या करें? लेकिन उसने हिम्मत नहीं हारी. जंपी को दो डंडे मारते हुए बोला, ‘‘मैं भी देखता हूं तेरी कितनी ऊंची पहुंच हैं.’’
डंडे की मार पड़ते ही जंपी मीमीयाने लगा. उसने कहां, ‘‘मैंने कुछ नहीं किया है.’’
तभी बिल्लू उसके सामने आ गया. उसने कहा, ‘‘साब, इसी ने उस दिन सारे मास्क खरीदे थे.’’
जंपी के घर की तलाशी लेने पर ब्लैकी को उसके घर से मास्क और चोरी का समान मिल गया.
इस्पेक्टर ब्लैकी भालू ने जंपी सियार को गिरफ्तार करके जेल भेंज दिया.
उस दिन से मड आइलैंड में चोरियां बंद हो गई.

Jan 19, 2021

jasoosi kahani : diamond ki chori, Prerak Kahani, हीरों की चोरी

Baccho ki Kahani,Jasusi Kahani,Moral Stories in Hindi,Prerak Kahani,diamond ki chori,


‘‘हम सो रहे थे. अचानक हमारे कमरे में दो-तीन बंदूकधारी नकाबपोश अंदर घुस आए. उन्होंने बंदूक की नोक पर हमसे तिजोरी खुलवाई और तिजोरी में रखे करोड़ों रूपए के हीरें लेकर चले गये.’’


Jasoosi Kahani : Diamond Ki Chori, Prerak Kahani, हीरों की चोरी

 
उस वक्त रात के लगभग एक बज रहे थे. इंस्पेक्टर चीता चतुरसिंह पुलिसकर्मियों के साथ पेट्रोलिंग करके आफीस पहुंचे. इतने में फोन की घंटी बज उठी. 

जैसे ही उन्होंने फोन उठाया दूसरी ओर से आवाज आयी, ‘‘हलो, मैं पूनम ज्वेलरी का मालिक सेठ गजराज हाथी बोल रहा हूं. क्या मैं इंपेक्टर चतुरसिंह से बात कर सकता हूॅ.’’ 

‘‘मैं इंस्पेक्टर चतुरसिंह ही बोल रहा हूॅ......कहिए क्या बात है?’’

‘‘अभी-अभी मेरे यहां तीन-चार नकाबपोश बंदूकधारी घर में घुसकर करोड़ों रूपये के हीरें लुट कर ले गए है.’’






करोड़ों रूपए के हीरों की डकैती की खबर सुनकर इंस्पेक्टर चतुरसिंह ने ड्राइवर को जल्दी से गाड़ी निकालने के लिए कहा और तुरंत पुलिस टीम लेकर सेठ गजराज के घर की ओर रवाना हो गये. 

वहां पहुंचकर देखा सेठ गजराज के घर पर अंधेरा छाया हुआ था. गेट पर कोई चैकीदार भी नहीं था. 

इंस्पेक्टर चतुरसिंह दरवाजे को ढकेल कर कमरे के अंदर पहुंचे और टार्च की रोशनी में कमरे के अंदर स्वीच बोर्ड ढुंढ़ कर स्वीच आॅन कर दिया. कमरे में रोशनी हो गयी. 

लाइट की रोशनी में उन्होंने देखा, सामने कुर्सी पर गजराज और उसकी पत्नी बंधे हुए थे. उनके मुंह में कपड़ा ढूंसा हुआ था.

इंस्पेक्टर चतुरसिंह ने आगे बढ़ कर उनके मुंह से कपड़ा निकाला और दोनों की रस्सी खोल दी.

गजराज ने कहां, ‘‘मैं लुट गया......बर्बाद हो गया......मैं दिवालिया हो गया. मेरे करोड़ों के हीरें लुटकर ले गए.’’

इंस्पेक्टर चतुरसिंह ने उनसे घटना के बारे में जानकारी मांगी.

‘‘हम सो रहे थे. अचानक हमारे कमरे में दो-तीन बंदूकधारी नकाबपोश अंदर घुस आए. उन्होंने बंदूक की नोक पर हमसे तिजोरी खुलवाई और तिजोरी में रखे करोड़ों रूपए के हीरें लेकर चले गये.’’




‘‘नकाबधारी किस ओर से आये थे.’’ इंस्पेक्टर ने पूछा.

गजराज ने घर के पीछे की ओर बने खिड़की की ओर इशारा करते हुए कहा, ‘‘शायद वहां से.’’

‘‘किधर से गये...’’

‘‘जिधर से आए थे, उधर से ही चले गये.’’ सेठ गजराज ने बताया.

इंस्पेक्टर चतुर सिंह ने पूछा, ‘‘आपको कब  बांधा?’’

‘‘जाते-जाते हमें कुर्सी पर बांधा और मुंह पर कपड़ा ढूंस कर चले गए’’ सेठ गजराज ने बताया. 

‘‘आपके यहां नौकर या चौकीदार नहीं हैं.’’ इंस्पेक्टर ने पूछा.

‘‘जी दोनों छुट्टी पर गये हैं.’’ गजराज ने कहा.

‘‘किसी पर कोई शक.’’

‘‘जी नहीं मुझे किसी पर शक नहीं...’’गजराज ने कहां. 

इंस्पेक्टर ने खिड़की के पास जाकर बारिकी से जांच किया. वहां ऐसे कोई निशान नहीं मिला जिससे यह पता चले की खिड़की से कोई घुसा था. उन्होंने कमरे का बारीकी से निरीक्षण किया लेकिन उन्हें वहां भी कोई क्लू नहीं मिला. 

जांच करते-करते सुबह हो गयी. इंस्पेक्टर चतुरसिंह ने मामला दर्ज कर लिया. 

इंस्पेक्टर चतुरसिंह ने चौकीदार व नौकर के बारे में सूचना मांगी.

सेठ गजराज ने कहां, ‘‘मुझे उन दोनों के बारे में कुछ नहीं मालूम. दो दिन में लौट कर आने की बात कह कर गये थे.’’ 

इंस्पेक्टर चतुरसिंह ने सेठ को डांटते हुए कहां, ‘‘आपको मालूम नहीं किसी भी नौकर और चौकीदार को अपने घर पर काम में रखने से पहले उसके बारे में अच्छे से पता कर लेना चाहिए. यहीं नहीं उनकी सूचना पुलिस स्टेशन पर पहुंचानी चाहिए.’’






‘‘दोेनों बहुत सीधेसादे और ईमानदार लगे थे. इसीलिए इन बातों पर ध्यान नहीं दिया. आगे से इस बात का ध्यान रखुंगा. जब कभी नया नौकर रखुंगा इसकी जानकरी पुलिस स्टेशन में जरूर      दूंगा.’’
 
कई महीने गुजर गये, लेकिन सेठ गजराज के यहां हुई करोड़ों के हीरों की लूट का कुछ पता नहीं चला.

इंस्पेक्टर चतुरसिंह सेठ गजराज के यहां पहुंचे और उनसे कहां, ‘‘हीरों के चोरी की झूठी रिर्पोट लिखवाने व पुलिस को गुमराह करने के आरोप में आपको गिरफ्तार किया जाता है.’’

सेठ गजराज ने कहां, ‘‘बिना सबूत के आप मुझे गिरफ्तार नहीं कर सकते हैं.’’

इंस्पेक्टर ने कहा, ‘‘सबूत के साथ हम गिरफ्तारी का वारंट भी लेकर आएं है.

हीरों की लूट होने की सूचना मिलने पर जब मैं आपके घर पर जांच करने पहुंचा था. उसी वक्त मैं जान गया था कि हीरों की लूट नहीं हुई है.’’ 
 
‘‘पुलिस टीम के साथ मैं आपके घर पर पहुंचा उस वक्त आप और आपकी पत्नी कुर्सी से बंधे हुए थे और आप दोनों के मुंह में कपड़ा ढुंसा हुआ था.’’




मुझे उसी वक्त शक हो गया था. जब आपके हाथ-पैर कुर्सी से बंधे हुए थे और मुंह में कपड़ा ढुंसा हुआ था तो फिर आपने पुलिस को फोन कैसे किया? इसका मतलब हीरों की चोरी नहीं हुई है.’’

इंस्पेक्टर की बात सुनकर सेठ गजराज पसीना-पसीना हो गए और उसकी पत्नी डर के मारे रोने लगी.

इंस्पेक्टर ने आगे कहना शुरू किया. आपके इस लूट के ड्रामा में आपकी पत्नी और नौकर मोनू चूहे ने साथ दिया. मैंने जब इस मामले की बारिकी से जांच की तो पता चला कि हाल ही में आपने हीरों का बीमा करवाया था. बीमा की रकम हड़पने के लिए आपने हीरों की चोरी होने का ड्रामा किया.’’

‘‘सबसे पहले आपने चैकीदार को छुट्टी पर भेंज दिया और इसके बाद अपने खास नौकर मोनू चूहे को रूपयों का लालच देकर अपने साथ शामिल कर लिया.’’

‘‘रात के एक बजे आपने पुलिस स्टेशन पर फोन किया. इसके बाद आपके बताए अनुसार नौकर ने आपको और आपकी पत्नी को कुर्सी से बांध दिया और मुंह में कपड़ा ढुंसकर यहां से अपने गांव चला गया.’’

जब मैंने मामले की जांच शुरू की तो मुझे मामला साफ-साफ समझ में आ गया था. इसीलिए सबसे पहले गांव गया और वहां मोनू से मिला. 






उससे मैंने कहां, ‘‘सेठ गजराज ने खुद के बचाव के लिए पुलिस को तुम्हारा नाम बताया है. सेठ का कहना है हीरों की चोरी उनके यहां के नौकर मोनू ने की. मेरी बात सुनकर मोनू मेरे पैरों पर लोट गया. उसने सारी बातें सच-सच बता दी. 

इंस्पेक्टर ने आवाज लगायी तो सब इंस्पेक्टर बहादुर कुत्ता अपने साथ मोनू चूहे को लेकर कमरे के अंदर आ गया. मोनू के हाथ में हथकड़ी बंधी हुयी थी. 

इंस्पेक्टर चीता चतुरसिंह ने सेठ गजराज हाथी को गिरफ्तार कर लिया. सेठ गजराज हाथी के अपराध में सहयोग देने के लिए उसकी पत्नी और नौकर मोनू चूहे को भी गिरफ्तार कर लिया.

इंस्पेक्टर चीता चतुरसिंह ने कहा, ‘‘अपराधी कितना ही चालाक क्यों न हो पुलिस की नजरों से वह बच नहीं सकता.’’

Dec 15, 2020

LIB Police Kya Hai, Prerak Kahani, Apeksha Mazumdar

LIB Police Kya Hai, Motivational Story In Hindi,motivational stories for employees,Prerak Kahani,Prerak Kahaniya,


LIB Police Kya Hai एल आई बी पुलिस क्या है?


नंदू दूध बेचने का धंधा करता था. उसके पास एक गाय थी, जो पांच लीटर दूध देती थी. 

नंदू दूध बेचने के लिए सतपुड़ावन की नई कालोनी चमनबाग के पोपट अपार्टमेंट में जाता था. उसका सारा दूध वहीं बिक जाता था. 

पोपट अपार्टमेंट के सारे फ्लैट अभी भरे नहीं थे. फ्लैट में रहने के लिए जैसेजैसे लोग आते गए, उन्होंने नंदू से दूध लेना शुरू कर दिया. 

नंदू को अब पहले से अधिक दूध के आर्डर मिलने लगे.


नंदू के पास इतना दूध नहीं था कि सभी को दूध दे सकें. वह किसी दूसरे दूध वाले को भी यहां नहीं भेंजना चाहता था, ऐसे में उसकी दुकानदारी पर असर पड़ सकता था.

उसके मन में लालच आ गया. वह दूध में पानी मिलाकर देने लगा. इस तरह से नंदू को पहले से अधिक आमदनी होने लगी. 
नंदू पांच लीटर दूध में पांच लीटर पानी मिलाता था. दूध पतला होने पर लोग इसकी शिकायत करने लगे. नंदू उनसे कहता,‘‘दूध पसंद नहीं आता है तो बंद कर दो.’’

लोगों को नंदू से दूध लेने की मजबूरी थी. क्योंकि उनकी कालोनी अभी अभी बनी थी, और वह मार्केट से काफी दूर होने की वजह से वहां कोई दूसरा दूध वाला नहीं आता था.



नंदू कहीं दूध देना न बंद कर दें, इसलिए लोगों ने शिकायत करना भी बंद कर दिया. नंदू का साहस बढ़ गया.
नंदू को आसपास के नए अपार्टमेंट से भी दूध के आर्डर मिलने लगे थे. उसके मन मेंऔर अधिक लालच आ गया. अधिक से अधिक रूपये कमाने के लालच में नंदू नकली दूध बनाकर देने लगा.

5 लीटर दूध बेचने वाला नंदू अब 50 लीटर दूध की सप्लाई करने लगा था. पहले वह पैदल ही दूध देने जाता था. इसके बाद उसने साइकिल खरीद ली. अब वह हीरोहोण्डा मोटर साइकिल पर दूध देने के लिए जाने लगा.

उसने अपने कच्चे मकान को तोड़कर वहां महलनुमा बंगला बना लिया था. आसपास की काफी जमीन उसने खरीद ली. खेती बाड़ी के लिए उसने नौकर चाकर भी रख लिए थे.

खेत की जुताई के लिए टैक्ट्रर ले लिया था. खुद के घुमने के लिए मंहगी कार भी खरीद ली. 


LIB Police Kya Hai

 
एक दिन नंदू के यहां छापा पड़ा. नकली दूध बेचने के आरोप में उसे गिरफ्तार कर लिया गया. उसकी सारी संपत्ति, कार, ट्रैक्टर, मोटर साइकिल, बैंक में जमा पैसा सब कुछ जब्त कर लिया गया. बैंक के लेन-देन पर भी रोक लगा दिया गया.

नंदू ने छापा मारने वाले पुलिस अधिकारी से पूछा, ‘‘मैं नकली दूध बेचता हूं इस बारे में दूध पीने वालों को आज तक पता नहीं चल सका फिर आपको कैसे पता चला कि मैं नकली दूध बेचता हूं.’’




अधिकारी ने कहा, ‘‘प्रशासन व्यवस्था में एक तरह की पुलिस होती है जो सिविल ड्रेस में रहती है. उन्हें एलआईबी पुलिस यानी लोकल इन्फामेंशन ब्यूरो पुलिस कहां जाता है. एलआईबी पुलिस इस बात का पता लगाती है कि कौन गलत काम कर रहा है, भष्ट्राचार में कौन लिप्त है. इन सबके बारे में मालूम होते ही उस पर कड़ी निगाह रखीं जाती है. पूरी रिर्पोट मिलने के बाद उसके यहां छापा मारा जाता है.

हमें जानकारी मिली थी कि तुम्हारे पास एक ही गाय है. उसने भी कुछ दिन पहले दूध देना बंद कर दिया हैं. इसके बावजूद तुम्हारे दूध बेचने का धंधा बंद नहीं हुआ. खोजबीन करने पर पता चला कि तुम नकली दूध बना कर बेच रहे हो.’’

‘‘एलआईबी पुलिस हर किसी पर निगाह रखती है. चाहे वह अमीर हो या गरीब. सभी के अच्छे व बूरे सारे कार्यो की जानकारी उसके पास होती है. उनकी निगाह से कोई नहीं बच सकता है. समझे.’’

‘‘हां, समझ गया. पुलिस की नजर से कोई भी अपराधी नहीं बच सकता है.’’ नंदू ने कहा.

Dec 5, 2020

motivational stories for students सुनी सुनाई बातों पर विश्वास न करें

sunee baato par vishwas na kare, Prerak Kahani,Prerak Kahaniya,prerak prasang,Short Motivational Story In Hindi,true motivational stories in hindi,motivational stories for students,



सुनी सुनाई बातों पर विश्वास न करें


गर्मी की छुट्टी में राहुल अपने नाना के गांव सारणी गया। वहां उसे गांव में पहले की अपेक्षा काफी परिवर्तन नज़र आया। जहां-तहां भजन कीर्तन हो रहे थे। उसने नानी से पूछा, ‘‘गांव में यह परिवर्तन कैसे हुआ?’’

नानी ने कहा, ‘‘गांव में एक बहुत पहंुचें हुए सिद्ध पुरूष आए है। उनके ही आर्शीवाद का फल है कि गांव में परिवर्तन हुआ हैं।’’

‘‘सिद्ध पुरूष .....’’ राहुल कुछ पूछता कि नानी ने उसे समझाते हुए कहा, ‘‘देखों, उनके बारे में कुछ अनाप-शनाप न कहना। इससे हमारा अनर्थ हो जायेगा।’’

राहुल को इन साधु-महात्माओं का ढ़ोग अच्छा नहीं लगता था। उसके अध्यापक ने बताया था कि ये साधु-महात्मा सीधे-सादे लोगों को बेवकूफ बनाकर लुटते हैं। इनके पास कोई भी देवीय शक्ति नहीं होती है। वे केवल छोटे-मोटे हाथ की सफाई दिखाकर तथा लोगों को भय दिखाकर अपना प्रभाव जमा लेते है।




शाम के समय राहुल भी अपने नानी के साथ साधु के आश्रम में गया। वहां उसने देखा, एक बड़े से चबूतरे पर एक हट्टा-कट्टा नव जवान बैठा हुआ हैं। उसके पास पहुंच कर नानी ने उसके चरण स्पर्श किए और राहुल को भी प्रणाम करने का इशारा किया।

‘‘महाराज यह मेरा नाती राहुल है। इसे आप आर्शीवाद दीजिए की यह अपने क्लास में अच्छे नंबरों से पास हों।’’
साधु ने थोड़ी सी राख और एक फूल देते हुए कहा, ‘‘लें राख को खा लेना और फूल को अपने किताब में रख लेना। तू अच्छे नंबरों से पास हो जाएगा।’’

यह सुनकर राहुल को बहुत गुस्सा आया। उसने सोचा, ‘कहीं राख खाकर और किताब में फूल रखने से भला कोई पास हो सकता हैं।’

आश्रम से लौटते समय नानी साधु की काफी बढ़ायी कर रही थी। 

नानी ने कहा, ‘‘यह बहुत ही सिद्ध पुरूष है। इन्हें भगवान ने साक्षात दर्शन देकर यहां भेंजा है। उन्होंने अपने तप के बल पर एक गरम जल का कुण्ड निकाला है।’’

राहुल ने नानी से पूछा, ‘‘गरम जल का कुण्ड कहां पर हैं।’’

‘‘यह कुण्ड आश्रम के बीचों-बीच में है। इस कुण्ड के पानी में जो भी स्नान करते है। उनके सभी प्रकार के रोग दूर हो जाते हैं।’’

नानी रास्ते भर और भी अनेक बातें बताती रही, लेकिन राहुल तो उस गरम जल के कुण्ड के बारे में सोच रहा था।
उसे यह साधु ढ़ोंगी और बदमाश प्रतीत होने लगा जो यहां के भोले-भोले लोगों को बेवकूफ बना रहा था। राहुल किसी तरह से साधु का भण्डा फोड़ना चाहता था।



दुसरे दिन आश्रम पहुंच कर वहां बारिकी से निरीक्षण करना शुरू किया। 

बच्चा जानकर उसे किसी ने भी नहीं रोका। आश्रम के अंदर की गतिविधियां उसे कुछ अजीब लगी। 

आश्रम के अंदर बनी झोपड़ियों में उसने झांककर देखा। वहा विलासिता की सभी चीजें मौजूद थी। 

जब वह गरम जल वाले कुण्ड के पास पहुंचा तो उसे पूरा यकीन हो गया कि यह वही जगह है। 

जब कुछ साल पहले वह नानी के गांव आया था। तब ओ.एन.जी.सी. वाले तेल की खोज कर रहे थे। तेल की खोज करते समय यहां एक गरम पानी का फव्वारा फूट पड़ा था। आश्रम घुमने के बाद राहुल पुलिस स्टेशन पहुंचा। 

‘‘सर, मेरा नाम राहुल है। मैं ढ़ोगी साधु के खिलाफ शिकायत लिखना चाहता हूं।’’ राहुल ने वहां उपस्थित दरोगा से कहा।

राहुल की बात सुनकर दरोगा बहुत क्रोधित हुआ। उसने राहुल को डरा धमका कर वहां से भगा दिया।
राहुल शांत नहीं बैठा। उसने अपने नाना को सारी बातें बतायी। सारी बातें सुनने के बाद नाना भी ढ़ोगी साधु को बेनकाब करने के लिए राजी हो गए।

राहुल नाना के साथ वहां के पुलिस आफीसर से मिलने गया। पुलिस आफीसर नाना के दोस्त थे। 

उन्होंने राहुल की पूरी बात सुनकर कहा, ‘‘अब आप लोग घर लौट जाएं। जितनी जल्दी होगा मैं उस ढ़ोगी साधु के खिलाफ कार्यवाही करूंगा।’’

मध्यरात्री के समय अचानक आश्रम में खलबली मच गयी। 




पुलिस कर्मियों ने पूरे आश्रम को घेर लिया था। 

आश्रम की तलाशी लेने पर साधु के चेले विरोध करने लगे। पुलिस द्वारा कड़ायी करने पर साधु के चेले गोली चलाने लगे। पर पुलिस फोर्स के सामने वे अधिक देर तक नहीं टिक सकें। पुलिस ने सभी को पकड़ लिया।

आश्रम की तलाशी लेने पर वहां से विदेशी बंदुके, बम, कई किलो नशीले पदार्थ बारामद हुई। 

आरोपियों से कड़ायी से पूछताछ करने पर पता चला कि  साधु इन सबका बाॅस है। उसने आश्रम को गोदाम बना रखा था। जहां से सारे देश में अस्त्र व नशीले पदार्थ पहुंचाया जाता है। लोगों को शक न हो इसलिए उसने साधु का भेष बना रखा था।

राहुल की समझदारी से एक देशद्रोही को पुलिस पकड़ने में सफल हुई। गांव के लोगों ने राहुल की खूब तारीफ की और पुलिस ने उसे ईनाम दिया।

शिक्षा:-

इस कहानी से शिक्षा मिलती हैं कि

  • कभी भी किसी के द्वारा फैलाई गई बातों पर आंख मूंद कर विश्वास नहीं करना चाहिए। बातों की तह तक जाना चाहिए। उसे तर्क की कसौटी पर परखना चाहिए। उसके बाद ही कोई निर्णय लेना चाहिए।
  • साइंस के इस युग के गणेशजी की मुर्ति द्वारा दूध पीना या समुद्र का जल अमृत हो जाना अफवाह हैं। कभी भी ऐसी बातों पर विश्वास नहीं करना चाहिए। 
  • स्वार्थी लोगों द्वारा अपने स्वार्थ के लिए उल्टे सीधे अफवाह फैला कर लोगों को ठगते हैं। ऐसे ठोंगी साधुओं से दूर ही रहना चाहिए।


बच्चों की जासूसी कहानी || कंपनी में चोरी

  #baccho_ki_kahani #jasoosi_kahani #hindi_kahan iya Bachcho Ki Jasoosi Kahani || Company Mein Choree बच्चों की जासूसी कहानी || कंपनी में चो...